#आत्मा,#परमात्मा की अंश है.ये दोनों सदैव एक_ दूसरे के पूरक हैं. अज्ञानी माया के अँधकार में मन की मति से चलते हैं, आत्मा मरी रह जाती है. जागृत पुरूष अमर होते हैं

India
Joined September 2021