मैं पापा कहता था। पापा अपने पिता को बाबूजी कहते थे। कुछ लोग डैडी कहते हैं। कुछ अब्बा कहते हैं। जो अपने बाप के अंतिम संस्कार में नहीं गया वह इनमें से किसी का भाव नहीं समझ सकता। जिसने अपने पिता को कंधा दिया है, उनसे स्नेह किया है वह किसी के #AbbaJaan का मज़ाक़ नहीं उड़ा सकता।
87
1,043
22
5,006
Replying to @Ashok_Kashmir
Desh me sbse phle kaam ke badle anaj karyakarm lagu hua fr bhut sara yojna aaya fr 2013 me sanad se kanun v bna ,baki phle satta ka itna abhimaan nhi tha aur jaanbujh kr kisi ka majak nhi banaya jata tha

4:08 AM · Sep 13, 2021

0
0
0
1