Assistant professor(chemistry) RT&LIKES ARE NOT ENDORSEMENT.All the world is my school and all the humanity is my teacher. स्थायी विपक्ष ,गैर राजनीतिक

India
Joined March 2019
31
104
7
273
Prof.shiv shankar retweeted
Replying to @Ravindr99596593
मैं कई बार गया हूँ,और एक बार तो हॉफ पेंट(नारा वाला)और बनियान में ही गया और वापिस आया।पेंट शर्ट पॉलीथीन के थैले में ही रखा रह गया😃😃
2
6
Prof.shiv shankar retweeted
Replying to @Shivay60999343
आटा पर लग गया तो मानिए सुबह जो मल आएगा वो भी टेक्स वाला होगा।😃
4
3
9
Prof.shiv shankar retweeted
दादा,आत्मा,परमात्मा और प्रकृति के बीच छिपे हुए रहस्य को उजागर करने के लिये पूर्व के सभी सिंद्धातों से अलग हटकर स्वंतत्र रूप से विचार करना होगा। स्थूलता से सूक्ष्मता की ओर जाने का पथ खोजने में सभी को साइड।🙏🙏
1
5
8
मोदी जी वाह!वाह!
1
7
36
Prof.shiv shankar retweeted
Replying to @ShivSha80732190
आदरणीय सर जी वास्तव में भारत भाईचारा और सौहार्द से मज़बूत है, इस मज़बूत परंपरा की ताकत को नष्ट करने का काम ही बीजेपी और संघ परिवार कोशिश कर रहे हैं, लेकिन कुछ मुट्ठी भर लोग,वरना भारत अब तक लहूलुहान हो जाता था, भारत में एकता बाकी है और बाकी रहेगी इस धरती का गुण है। जय हिन्द
1
1
1
अब नेटवर्किंग साथ छोड़ रही है बंधुवर। शास्त्रीय विवेचनाएं आजकल निरर्थक है। हम गृहस्थ लोग दैनंदिन की बिसंगतियों पर ही चर्चा कर लें, वहीं बहुत है,निरंजन व तुम्हें राम राम!
1
3
5
Prof.shiv shankar retweeted
Replying to @ShivSha80732190
आपकी इसी बात को लोगों को समझना हैं…..सर।🙏। सारे ढकोसले,पाखंड बंद हो जाएँगे।
1
3
3
Prof.shiv shankar retweeted
Replying to @SinghRakeshKu14
शुभ सन्ध्या बड़ेभाई जी🙏🙏 धर्मग्रंथों के चक्करों में पड़ना ही क्यों?जब हम सब एक ही परमपिता (नाम बेशक भिन्न)हो,तो किसी के लिखे किताबों पर क्यो जाना।लेखक के अपने विचार भी हो सकते है वो जो पाया देखा महसूस किया उसे लिख डाला।
1
7
9
Prof.shiv shankar retweeted
हर धर्मशास्त्र भी इसी प्रश्नके सापेक्ष ही है दादा! जबतक हम ब्रह्मविद्या केलिए त्रिगुणात्मक विवेचन से ऊपर उठकर कर्मकांडीय प्रभाव रहित तुरीय स्थिति पर ठहर कर निष्पक्ष विचार साक्षीभाव से नही करेंगे तबतक सत्य ढंका ही रहेगा। पूर्वाग्रह त्यागना पड़ेगा ब्रह्मविद्यार्थी को 🙏🙏🙏
2
6
5
अपने छ: शास्त्रों में किस शास्त्र से उसकी ब्याख्याएं मिलती हैं? यदि नहीं तो सब बेकार हैं। यदि कुछ भी मिलती हैं तो उल्लेख करो।
1
4
3
Prof.shiv shankar retweeted
बंशी भाई जी आज कुटाए हैं क्या 😂😂
जो मैं बोलता हूँ वो अवश्य करता हूँ,जो नही बोलता हूँ वो डर से करता हूँ।बेलन चिमटा से दर्द बहुत होता है। @BanshiD90619873 कहते हैं @beg_ilyas @RajendraP1974 @budhwardee @lawyersarab17
1
1
Prof.shiv shankar retweeted
भाभी बोलीं ए जी सुन तानि : हमनी के बाबा बैजनाथ बनारस अयोध्या त घूमिए लेहनी - रउरा सबसे अच्छा धाम कौन धाम लागल हा , @ShivSha80732190 साहब जी बोले राउर नईहर अच्छा लागल हा !! 😂😂😂 @NiranjanTripa16 @SinghRakeshKu14 @beg_ilyas @nareshsharma107 @sharwan24530535 @SharmaSuresh365
2
5
7
शुभमस्तु प्रियवर ! मुझे तो वह मनोविकार से ग्रस्त जीवधारी समझ में आया। भला जहां विज्ञान नहीं,उसमें ज्ञान की कहां जगह है। तार्किकता ही ज्ञान नहीं है।
3
4
एक बात तो है कि प्रचलित धारणाओं में उसने राम कृष्ण शिव किसी को नहीं छोड़ा है। पर यह भी सत्य है कि उसका अध्ययन बहुत थोड़ा है।
1
4
4
Prof.shiv shankar retweeted
आध्यात्मिक गूढ़ रहस्य को तथा तथाकथित धर्मकी परिभाषा को बहुत ही सुंदर व्यख्या किया है!
1
2
5
Prof.shiv shankar retweeted
सटीक👌👌👌 दर्शनशास्त्र के प्रोफेसर भी थे।
1
1
Prof.shiv shankar retweeted
आज बंशी भाई की खैर नही है घरमें😀😀😀
2
1
Prof.shiv shankar retweeted
जो मैं बोलता हूँ वो अवश्य करता हूँ,जो नही बोलता हूँ वो डर से करता हूँ।बेलन चिमटा से दर्द बहुत होता है। @BanshiD90619873 कहते हैं @beg_ilyas @RajendraP1974 @budhwardee @lawyersarab17
1
3
2
9
Prof.shiv shankar retweeted
उंस जैसे इंसान न तो किसी संस्कृति न सम्प्रदाय न समाजकी बन्धनसे बंधे जा सकता है। श्रीकृष्ण पर 12 किताब है उनकी। दिमाग खराब हो गया पढ़कर की क्या सत्य का उद्घाटन हुई है और श्रीकृष्ण क्या हैं! अलौकिक प्रवचन! किताब लिखते समय पढा हूं हर धर्म और साधुओंको🌷🌷🌷
2
5
4