हम वतन के लिए वतन हमारे लिए

Joined April 2021
गंगा में तैरती लाशें , शमशान - कब्रिस्तान में अपनी बारी का इंतजार करती लाशें , ऑक्सीजन हॉस्पिटल के लिए तड़पते मरीज व परिजन , वो नँगे पाँव भूखे प्यासे पैदल चलते अप्रवासी मजदूर , ना भले हैं ना भूलने देंगे ।