Interested in politics.

Joined May 2017
अब ऐसी भी नौबत आ गई कि अग्निवीरों को किसी के दफ्तर की चौकीदारी भी करनी पड़ेगी मंत्री जी को ऐसा बयान नहीं देना चाहिए था हमारे देश की रक्षा कोई मंत्री नहीं करता हमारे देश की सेना करती है उसका अपमान इनको नहीं करना चाहिए था
हमारे प्रधानमंत्री जी को इतना जोशीला कानून नहीं बनाना चाहिए था थोड़ा सा मीडियम में होना चाहिए हमारे देश के बेरोजगार युवाओं का कोई भी दोष नहीं है देश की युवा अग्नि का रूप धारण करके पथ पर चलने लगे इसमें बताइए किसका दोस है अगर यही कानून को नाम शांति पथ होता तो तो युवा शांत चलते
हमारे प्रधानमंत्री जी ऐसे ऐसे कानून बनाते हैं कि लोगों को सपोर्ट करना मजबूरी भी हो जाती है जैसे अग्निपथ जो भी कानून का नाम सुनता है अग्निपथ उसके रोए रोए तक खड़े हो जाते हैं आग हर जगह तो लगेगी अग्नीपथ नाम ही है अगर शांतिपथ नाम होता तो हो सकता है लोग शांत होते
हमारे देश में जब कोई नया कानून बनता है तो उसको मीडिया मास्टर स्ट्रोक बताती है और जब वह कानून वापस किया जाता है तो उसको भी मीडिया मास्टर स्ट्रोक बताती है हमारे यह समझ में नहीं आता कि मास्टर स्ट्रोक है क्या कौन सा डिसीजन अच्छा है किसी पर थोपना या वापस लेना
युवाओं ने अग्निपथ को नकार दिया पर कुछ अंधभक्त लोग कह रहे हैं कि युवाओं को भ्रम हो गया है उनके भ्रम दूर करने की तैयारी हो रही है इसी तरह किसानों को भी भ्रम हो गया था ऐतिहासिक कृष कानून आने की
अब देखना है अग्निपथ मार्केट में दौड़ती है कि अक्षय कुमार की फिल्म जैसी पिट जाती है
5
15
5
कश्मीरी पंडित के नाम पर वोट मांगने वाले क्या इस पलायन की जिम्मेदारी लेंगे कि यहां के पंडित किसकी गलत नीत के शिकार हो गए
1
सुई से लेकर हवाई जहाज बनाने वाली पार्टी देशद्रोही है और रेलवे स्टेशन से लेकर किसानों की फसल तक बेचने वाली पार्टी देशभक्त है यह भारत देश हमारा कैसा हो गया
हमें डर है कि कहीं हमारा देश श्रीलंका जैसे ना बन जाएं
1
बताइए हमारे देश में हिंदू को हनुमान चालीसा याद नहीं है किताब लेकर पढ़ रहे हैं और अपने को हिंदू कट्टरपंथी कहते हैं जिनको हनुमान चालीसा तक याद नहीं वह हिंदुत्व का प्रचार कर रहे हैं हमें तो सब कंठस्थ है यह हमारे संस्कारों से मिला है इनके घर का संस्कार पता नहीं