देखना शौक़ है। घोर पारिवारिक। अंग्रेज़ी नहीं आती । किताब: इश्क में शहर होना, Free Voice, बोलना ही है । naisadak.org ब्लाग है,@nayisadak हैंडल है ।

Joined June 2009
यात्रीगण, कृपया ध्यान देना बंद कर दें। भारत अमृत काल में प्रवेश कर चुका है। अमृत चख लें और अजर अमर हो जाएँ। रोज़गार, वेतन, पढ़ाई इन सबकी चिन्ता से मुक्त हो जाएँ। अमृत काल चल रहा है। 2022 का नया इंडिया अब 2047 में आएगा। ये गाड़ी चलती स्टेशन से है मगर स्टेशन पर कभी पहुँचती नहीं।
3,990
17,270
748
65,318
हर किसी की ज़िंदगी में एक चाँद निकल आए, नौकरी वालों के घर में एक शाम निकल आए । # ईद मुबारक।
1,515
4,489
229
44,859
ग़मों की बात फिर कभी, आज की बात कर अभी, उनको भी लगा ले गले, जो आ न सके तरी गली । #ईद मुबारक ।
1,067
4,057
180
34,295
आप सभी को ईद की शुभकामनाएँ । ईद मुबारक़।
4,190
7,648
486
81,474
लता जी, लता दी, लता मंगेशकर। अनंत भावों को अपने सुरों से साधने वाली लता मंगेशकर की याद इस चमन में हर दिन महका करेंगी। ज़माना हमेशा दिल ये याद करेगा। श्रद्धांजलि।
631
4,975
113
42,821
यात्रीगण, कृपया ध्यान देना बंद कर दें। भारत अमृत काल में प्रवेश कर चुका है। अमृत चख लें और अजर अमर हो जाएँ। रोज़गार, वेतन, पढ़ाई इन सबकी चिन्ता से मुक्त हो जाएँ। अमृत काल चल रहा है। 2022 का नया इंडिया अब 2047 में आएगा। ये गाड़ी चलती स्टेशन से है मगर स्टेशन पर कभी पहुँचती नहीं।
3,990
17,270
748
65,318
यदि एक ज़हर दूसरे ज़हर से मिल जाए तो इस बात का निश्चय कौन करेगा कि उनमें पहले कौन सा डाला गया था। और यदि इस बात का निश्चय हो भी जाए तो इससे फ़ायदा क्या होगा? - गांधी ( पृष्ठ संख्या 48, प्रार्थना प्रवचन, खंड दो )
1,167
7,370
180
38,632
जिस सोच ने गांधी की हत्या की वह आज भी आपके बीच है। उस सोच के प्रसार में लगे लोग 30 जनवरी से भागने के लिए सौ तारीख़ें खड़ी करते रहते हैं। इस गीत में रसूल मियाँ पूछ रहे हैं उनके गांधी को किसने मारा। जवाब आप जानते हैं। invidious.fdn.fr/0x15czkr1dM
1,369
4,649
262
20,554
फिर कोई दूसरा कमाल ख़ान नहीं होगा भारत की पत्रकारिता आज तहज़ीब से वीरान हो गई है। वो लखनऊ आज ख़ाली हो गया जिसकी आवाज़ कमाल ख़ान के शब्दों से खनकती थी। NDTV परिवार आज ग़मगीन है। कमाल के चाहने वाले करोड़ों दर्शकों का दुख ज्वार बन कर उमड़ रहा है। अलविदा कमाल सर।
3,692
16,656
819
75,432
एक साल पहले की तस्वीर याद करें। गोदी मीडिया किसान आंदोलन को आतंकवादी कहने लगा। उस अफ़सर को याद करें जिसने किसानों का सर फोड़ देने की बात कही और सरकार उसके साथ खड़ी रही। किसानों ने विज्ञान भवन में ज़मीन पर बैठकर अपना खाना खाया। उन कीलों को याद करें जो राह में बिछाई गई।
1,480
14,028
386
49,531
सिविल सोसायटी को युद्ध का चौथा मोर्चा बता कर पुलिस को संगीन तानने की सीख देने वाली सरकार के सामने आज किसान आंदोलन नाम की सिविल सोसायटी की जीत हुई है। बाक़ी चुनाव तो चंदे को अंधेरे में रखने वाले क़ानून और गोदी मीडिया के दम पर भी जीते जा सकते हैं।
533
5,940
104
25,256
किसानों को बधाई। उन्हें भी,जिन्होंने किसानों को आतंकवादी,आंदोलनजीवी कहा। किसानों ने देश को जनता होना सिखाया है,जिसे रौंद दिया गया था। आवाज़ दी है। गोदी मीडिया आज भी किसानों की बात किसानों के लिए नहीं ‘उनके’ लिए करेगा।किसानों ने समझा दिया कि किसानों को कैसे समझा जाता है।
2,241
16,675
455
63,825
ये गाना भी सुन लें,दो जासूस करे महसूस कि दुनिया बड़ी ख़राब है लेकिन कोर्ट ने कहा है कि राष्ट्रीय सुरक्षा की आड़ में निजता का हनन नहीं हो सकता। अपने बेडरूम में पर्दा लगवा लें,पैगा- जासूस झांक रहा है। आम का मौसम नहीं है गोदी पत्रकार पूछने की तैयारी करें, कद्दू कैसे छीलते हैं ।
493
4,480
112
19,309
सुप्रीम कोर्ट का यह फ़ैसला जनता की जेब और बेडरूम में झांकने वाली सरकार के लिए सबक़ है। जस्टिस रमना की बेंच का यह ऐतिहासिक फ़ैसला क्या हिन्दी अख़बारों में विस्तार से छपेगा? कल देखिएगा।जब अख़बार ख़बरों को छिपाने और सरकार जनता की जासूसी करने लगे तब उसे लोकतंत्र की हत्या कहते हैं।
839
7,145
188
29,847
द वायर की पत्रकारिता और पत्रकारिता की चाह रखने वालों की ऐतिहासिक जीत हुई है। गोदी मीडिया में काम करने वालों को मेरी एक सलाह है। अपने गोदी संपादकों/ऐंकरों की आँखों में देखिएगा जब वे नज़रें बचाकर दबे पाँव न्यूज़ रूम में चल रहे होंगे। गोदी मीडिया भारत के लोकतंत्र का हत्यारा है।
1,947
10,021
441
42,777
बहुत ज़रूरी है कि हिंसा की भाषा और तेवर से दूर रहें। हिंसा का जवाब हिंसा नहीं है। कल ही तो हम सभी इस बेहद साधारण बात को दोहरा रहे थे। एक दिन में भूल जाते हैं। साधारण सी लगने वाली इस बात का अभ्यास बहुत कठिन है। कोशिश कीजिए। शांति और संवाद का आदर हर पक्ष को करना चाहिए।
876
7,600
189
29,339
लोकतंत्र की माँ भारत में किस तंत्र के प्रभाव में किसानों पर गाड़ी चलाई जा रही है? गोदी मीडिया की हिंसक भाषा की गाड़ी रोज़ किसानों को कुचलती है। सर फोड़ने की भाषा अफ़सर की और देख लेने की भाषा मंत्री की। हिंसा सोच से भाषा में और भाषा से कार्य में आ जाती है। हिंसा की भाषा से बचिए।
1,556
11,395
349
37,660
पहले किसानों के रास्ते में कीलें गाड़ दी गईं और अब किसानों पर गाड़ी चलवा दी गई। मामले को बराबर करने के लिए गोदी मीडिया नाम का रोड रोलर चलवा दिया जाएगा। विपक्ष को रोकने का फ़ैसला भी आता ही होगा। किसानों को निकालने की बात कर मंत्री कैसा देश बनाना चाहते हैं?
3,104
20,308
806
65,123
बहुत सुंदर नीरज जी।
A small dream of mine came true today as I was able to take my parents on their first flight. आज जिंदगी का एक सपना पूरा हुआ जब अपने मां - पापा को पहली बार फ्लाइट पर बैठा पाया। सभी की दुआ और आशिर्वाद के लिए हमेशा आभारी रहूंगा 🙏🏽
443
3,613
71
45,852
जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि सरकार का झूठ उजागर करें। उन्हें और माननीय अदालत को यह देखना चाहिए कि झूठ उजागर करने वालों को झूठे मामलों में फँसाया जाता है। झूठ के उजागर को जनता तक पहुँचाना आसान नहीं है। अब क्या जनता अपना काम छोड़ कर चौराहे और चौपाल पर प्राइम टाइम का प्रसारण करेगी ?
1,129
9,174
211
36,693
.@ndtvindia को @HathwayCableTV अपने पोपुलर पैक से हटा दिया। हम बात से समाधान का प्रयास कर रहे हैं। आपके केबल में @ndtvindia नहीं आ रहा है तो @HathwayCableTV को ट्वीट कीजिए और इन नंबरों पर फ़ोन कर चैनल का कनेक्शन माँगिए। 1800 4197 900; 0120 6836401
1,519
7,935
440
22,113