हे हरि शरण में राखिये, चरण शरण गति देयं. सब अपराध विसारि के, मन निर्मल करि देयं 🙏 जय श्री हरि
30
64
2
458